July 29, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

अर्थव्यवस्था को लेकर पी चिदंबरम का केंद्र पर निशाना

 

नई दिल्ली। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने गत अप्रैल माह के लिए औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) से जुड़े आंकड़े जारी नहीं करने को लेकर शुक्रवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधा. चिदंबरम ने ट्वीट कर कहा, ‘‘ वित्त मंत्री कहती हैं कि अर्थव्यवस्था सुरक्षित हाथों में है, यह इतनी सुरक्षित हाथों में है कि सरकार ने अप्रैल, 2020 के लिए आईआईपी ही जारी नहीं किया। क्या सरकार आईआईपी के आंकड़े को ऐसे सुरक्षित कमरे में बंद कर देगी जिसे 20 साल बाद ही खोला जाएगा।”

ध्यान रहे कि देशभर में 25 मार्च से लॉकडाउन के पहले चरण की शुरुआत हुई थी तब से लेकर अब तक पूरे देश में उद्योग धंधे काफी प्रभावित हो चुके है।

पी. चिदंबरम ने शुक्रवार को ट्वीट के माध्यम से ऑक्सफ़ोर्ड पॉवर्टी एंड ह्यूमन डेवलपमेंट इनिशिएटिव (ओपीआचाई) के अध्ययन रिपोर्ट को साझा करते हुए कहा कि इससे स्पष्ट है कि कांग्रेस सरकार ने किस तरह देश और देशवासियों को हर पक्ष से मजबूत बनाया। रिपोर्ट के अनुसार यूपीए शासनकाल के वर्ष 2005 से 2015 के बीच 27 करोड़ भारतीयों को गरीबी से बाहर निकाला गया था। उन्होंने कहा कि यह भारत की आर्थिक वृद्धि का स्वर्णिम काल था।

कांग्रेस नेता ने भाजपा सरकार पे निशाना साधते हुए कहा कि 2015 के बाद से एनडीए सरकार ने क्या किया है? केवल नौ लगातार तिमाहियों के लिए आर्थिक विकास में गिरावट और 2020-21 में आसन्न मंदी का कारण बनी है और यूपीए के आंकड़ों का मजाक उड़ाने वालों को पता होना चाहिए कि अर्थशास्त्री उनकी अज्ञानता और अयोग्यता पर हंस रहे हैं।

%d bloggers like this: