June 25, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

DGP गुप्तेश्वर पांडे की चेतावनी के बाद मुंबई में क्वारंटाइन किए गए बिहार के IPS विनय तिवारी को छोड़ा

पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी को छोड़ा, वृतांत - Vritaant

मुंबई। फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह आत्महत्या मामले में जांच करने मुंबई गये पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी को DGP गुप्तेश्वर पांडे की चेतावनी के बाद ठाकरे सरकार ने छोड़ दिया है। बीएमसी ने उन्हें 14 दिनों के लिए क्वारंटीन किया। जिसके बाद मुंबई से लेकर बिहार तक काफी हंगामा देखने को मिला था। बाद में बिहार सरकार ने सुशांत केस को लेकर सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी, जिसे स्वीकार भी कर लिया गया।

इससे पहले बिहार डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने चेतावनी देते हुए कहा था कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने सुनवाई के दौरान कहा कि किसी IPS अधिकारी को क्वारंटीन करना गलत है, अनप्रोफेशनल है। ऐसे में बिहार डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने आईपीएस अधिकारी को लौटने की अनुमति नहीं दिए जाने पर गुरुवार को कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी थी। उन्होंने कहा था कि अधिकारी को जबरन क्वारंटीन में रखा गया है। डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा, “हमारे अधिकारी विनय तिवारी मुंबई पुलिस को सूचना देकर वहां गए थे। पटना के वरिष्ठ पुलिस ने उनके वहां जाने की सूचना दी थी। पत्र लिखकर उनके ठहरने के लिए आईपीएस मेस व्यवस्था करने का अनुरोध किया था।”

पटना सिटी के एसपी विनय तिवारी के क्वारंटीन को लेकर बिहार पुलिस की ओर से मुंबई पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए थे। खुद विनय तिवारी ने भी कहा था कि उनके क्वारंटीन किए जाने से जांच प्रभावित होगी। वहीं बिहार पुलिस ने मुंबई पुलिस पर जांच में सहयोग नहीं करने का भी आरोप लगाया था।

इस बीच, पटना पुलिस की चार सदस्यीय टीम शुक्रवार को वापस लौट आई। यह टीम एक सप्ताह से अधिक समय से मुंबई में डेरा डाले हुए थी और मामले की जांच कर रही थी। इस पर उन्होंने मीडिया से कुछ भी साझा करने से इनकार करते हुए कहा कि सब ठीक से हो गया। हमने अपने सीनियर अधिकारियों के निर्देशों के अनुसार अपनी जांच की। हमारे जो भी निष्कर्ष आए हैं, हम उन्हें साझा करेंगे। इसी टीम का नेतृत्व करने के लिए पटना सिटी एसपी विनय तिवारी मुंबई पहुंचे थे, जिन्हें क्वारंटीन कर लिया गया था DGP गुप्तेश्वर पांडे की चेतावनी के बाद छोड़ दिया गया है।

%%footer%%