August 5, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

अगले साल की शुरुवात तक 1 करोड़ स्वास्थय कर्मचारियों को कोविद-19 वैक्सीन की पहली खुराक दी जाएगी

वैक्सीन प्रशासन पर एक महत्वपूर्ण बैठक से पहले प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। अगले साल की शुरुवात में भी सबसे पहले कोविद-19 का टीका उपलब्ध होगा उसकी पहली खुराक फ्रंटलाइन हैल्थकेयर कार्यकर्ताओ को उपलब्ध कराई जाएगी। वैक्सीन प्रशासन के विशेषज्ञ समूह ने कहा कि वे पहली प्राथमिकता वाले समूह के लिए डेटाबेस बनाने के अग्रिम चरण में चले गए है जिनमे सबसे पहली प्राथमिकता स्वास्थय कर्मचारियों को दी जाएगी। टीकाकरण ड्राइव के दौरान पहली खुराक प्राप्त करेंगे जब किसी विशेष वैक्सीन को देश भर में उपयग के लिए भारतीय नियामक द्वारा मंजूरी दी जाती है।

सरकार के उच्च अधिकारियो ने कहा की हमे राज्यों से प्रायप्त प्रतिक्रिया मिली है। पुरे राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में 90 फीसदी लोगो ने डाटा उपलब्ध कराया है। निजी क्षेत्र के लगभग 56 प्रतिशत अस्पतालों ने डाटा प्रदान किया है। इन सभी को मिला कर स्वास्थय कर्मचारियों का जो समूह सामने आया है वह लगभग 1 करोड़ है। हेल्थ केयर और फ्रंट लाइन श्रमिकों पर एक डेटाबेस का निर्माण की प्रक्रिया जो अब अंतिम चरण में है इस पर पीएम मोदी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। वरिष्ठ अधिकारियो ने पुष्टि की कि एनआईटी आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल और केंद्रीय स्वास्थय सचिव राजेश भूषण दोनों, जो विशेषज्ञ समूह के सह-अध्यक्ष है, से उम्मीद है की जाती है कि वे बैठक में एक विस्तृत प्रस्तुति देंगे।

केंद्रीय स्वास्थय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि भारत में उपलब्ध होने वाले कोविद वैक्सीन के वितरण का क्रम अक्टूबर में रखा गया था, पहली प्राथमिकता उन लोगो के लिए होगी जो वायरस और जोखिम से व्यवसायिक खतरों का सामना कर रहे है। यह दर्शाता है कि पेशेवर स्वास्थय कर्मियों को सबसे पहले प्राथमिकता दी जाएगी। हालाँकि मुख्य समूह के भीतर आगे कोई प्राथमिकता नहीं है। एक बार जब स्वास्थय कर्मचारियों का टीकाकरण करते शुरू होता है तो यह शुरू से अंत तक पुरे 1 करोड़ लोगो के लिए होगा। दवा और नर्सिंग के छात्र और संकाय सदस्य भी टीकाकरण कार्यक्रम के प्रशिक्षण में शामिल होंगे।

%d bloggers like this: