September 26, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

कोविद-19 वैक्सीन : भारत वैक्सीन के रोल आउट की तैयारी कर रहा है, वितरण के लिए आंगनवाड़ी केन्द्रो, स्कूलों आदि का उपयोग किया जायेगा

आंगनवाड़ी केन्द्रो, स्कूलों, पंचायत भवनों और अन्य ऐसे सेटअप का इस्तेमाल स्वास्थय सुविधाओं के अलावा बड़े पैमाने पर एंटी-कोरोना वायरस इनोक्यूलेशन ड्राइव में टीकाकरण साइटों के रूप में किया जायेगा, जिसकी निगरानी केंद्रीय स्वास्थय मंत्रालय के डिजिटल प्लेटफार्म द्वारा की जाएगी। लाभार्थियों की निगरानी के लिए प्रत्येक टीके के बाद एसएमएस भेजना और क्यूआर कोड जनरेट करना शामिल होगा। एक विशेषज्ञ समूह के ब्लू प्रिंट के अनुसार राज्य सरकारे उन इमारतों की पहचान करेगी जिनका उपयोग टीकाकरण बूथ के रूप में विशेष कोविद-19 टीकाकरण बूथ के रूप में विशेष कोविद-19 टीकाकरण कार्यक्रम के तहत किया जा सकता है जो मौजूदा यूनिवर्सल टीकाकरण (यूपीआई) के समान्तर चलेगा।

टीकाकरण स्थल  केवल स्वास्थय सुविधाओं तक सीमित नहीं होंगे। ऐसे केंद्र आंगनवाड़ी केंद्रों, स्कूलों, पंचायत भवनों और ऐसे अन्य सेटअप में भी स्थापित किये जेनेगे, जिन्हे राज्य सरकारे चिन्हित करेगी। टीकाकरण सूची में प्रत्येक व्यक्ति को नक़ल से बचने और लाभार्थियों को ट्रैक करने के लिए उनके आधार कार्ड के साथ जोड़ा जायेगा। हालाँकि अगर किसी व्यक्ति के पास आधार कार्ड नहीं है तो सरकारी फोटो पहचान पत्र का इस्तेमाल किया जा सकता है। इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क (ईवीआइएन) प्रणाली यूपीआई के तहत देश के सभी कोल्ड चेन पॉइंट्स पर वैक्सीन स्टॉक और स्टोरेज तापमान पर वास्तविक समय की जानकारी प्रदान करती है।

प्रधान मंत्री ने पिछले महीने एक समीक्षा बैठक के दौरान, टीका वितरण को विकसित करने के लिए चुनाव और आपदा प्रबंधन के सफल आयोजन के अनुभव का उपयोग करने का सुझाव दिया था और वितरण प्रणाली, सभी आवश्यक डोमेन से राज्यों / संघ राज्य क्षेत्रो / जिला-स्तर के अधिकारियो, नागरिक समाज संगठनों, स्वयंसेवको, नागरिको और विशेषज्ञों की भागीदारी को शामिल करती है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि कोरोना वायरस वैक्सीन एक बार उपलब्ध होने पर विशेष यूवीआईपी की प्रक्रियाओं, प्रौद्योगिकी और नेटवर्क का उपयोग करते हुए एक विशेष कोविद-19 टीकाकरण कार्यक्रम के तहत वितरित किया जायेगा। उनके अनुसार केंद्र, राज्यों और जिलों के मौजूदा नेटवर्क के माध्यम से प्राथमिकता वाले समूहों को उपलब्ध करने के लिए सीधे वैक्सीन की खरीद करेगा। वैक्सीन को प्राथमिकता वाले समूहों को मुफ्त में देने की योजना बनाई जा रही है।

%d bloggers like this: