June 25, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

गुपकर की टिप्पणी के लिए कपिल सिब्बल ने अमित शाह को दिया जवाब

kapil sibbal hit back on amit shah for gupkar, वृतांत - Vritaant

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने बुधवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधते हुए कहा कि गुपकर घोषणा के लिए कांग्रेस और पीपुल्स अलाइंस जम्मू और कश्मीर को आतंक और उथल-पुथल के युग में वापस ले जाना चाहते है। उन्होंने ‘गुपकर गैंग’ शब्द का उपयोग करने के लिए शाह की आलोचना की। सिब्बल ने एक ट्वीट में कहा कि अमित शाह ने आरोप लगाया कि कांग्रेस जम्मू-कश्मीर को आतंक और उथल-पुथल के युग में वापस ले जाना चाहती है, जब आगामी जिला विकास परिषद् चुनावो में अन्य दलों के साथ बात की जाये। अमितजी भाजपा-पीडीपी ने जम्मू-कश्मीर में आतंक वापस लाने के लिए गठबंधन किया था, तब आप किस गिरोह का हिस्सा थे ?

पीटीआई ने बताया कि कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज ने भी टिप्पणियों के लिए शाह की आलोचना की, कहा कि गृह मंत्री ने मुख्य धारा के राजनितिक दलों के गठबंधन को खराब बताते हुए भारत और उसके लोकतंत्र को ख़राब रौशनी में दिखाया है। सोज ने एक बयान में कहा कि केंद्र में सत्तारूढ़ सरकार पहले ही यह सोचकर शासन की प्रणाली को नुकसान पंहुचा चुकी है कि भारतीय जनता पार्टी की लोकतान्त्रिक प्रणाली के लिए एकमात्र सुरक्षा कवच है। उन्होंने कहा कि हालाँकि वास्तविकता इसके विपरीत है। तथ्य यह है कि केंद्र में वर्तमान शासन ने भारत और उसके लोकतंत्र के लिए एक बुरा नाम ला दिया है और यह अब पुरे सिस्टम के लिए एक बड़ा झटक है कि कश्मीर मुख्यधारा की एकजुटता को खतरे के रूप में देखा जाता है।

यदि केंद्रीय गृह मंत्री कश्मीर में एक लोकतान्त्रिक स्थापना से निपटने के लिए तैयार नहीं होते है तो क्या वह वर्तमान लोकतान्त्रिक संयोजन के विपरीत एक सेट अप के उभरने का इंतजार करेंगे। उन्होंने ने कहा कि जम्मू-कश्मीर और केंद्र के संबंधो को पहले ही झटका लगा है और नुकसान अपूरणीय लग रहा है। शाह की टिप्पणियों पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने भी एक इंटरव्यू में कहा कि गृह मंत्री अपनी जिम्मेदारियों को दरकिनार कर रहे है और भ्रामक टिप्पणियां कर रहे है। इसी बीच कांग्रेस के महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पार्टी के खिलाफ अपनी टिप्पणी के लिए शाह पर हमला बोला। सिंह ने एक बयान में कहा कि झूट फैलाना और नए भ्रम पैदा करना नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार का तरीका बन गया है। उन्होंने शाह पर जम्मू-कश्मीर के बारे में भ्रामक बयान देने का आरोप लगाया, जबकि राष्ट्रिय  सुरक्षा की जिम्मेदारी एक तरफ रखी।

%%footer%%