June 18, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

राजस्थान : किसान आंदोलन के बारे में बोले मुख्य मंत्री अशोक गहलोत, पीएम मोदी को ठहराया जिम्मेदार

ashok gehlot on pm modi, वृतांत - Vritaant

देश में किसान आंदोलन का मुद्दा आग पकडे हुए है। पंजाब और हरियाणा के किसान कई दिनों से दिल्ली की सड़को पर केंद्र सरकार द्वारा पारित किये गए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे है। देशभर ने किसानो को कई विपक्षी पार्टियों से भी समर्थन मिल रहा है। इसके अलावा 8 दिसंबर को किये गए भारत बंद के दौरान कई विपक्षी पार्टियों ने बंद का समर्थन किया और कई नेताओ ने किसानो के साथ मिलाकर बंद के दौरान रैलिया निकाली। राजस्थान में भी कांग्रेस सरकार ने बंद का समर्थन करते हुए किसान आंदोलन का समर्थन किया है। इसके अलावा राजस्थान के मुख्य मंत्री अशोक गहलोत ने किसान आंदोलन पर बड़ा बयान दिया है। मुख्य मंत्री अशोक गहलोत ने किसानो के इस कदम के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया है।

इसके अलावा अशोक गहलोत लगातार मीडिया से बात करके केंद्र सरकार के खिलाफ आवाज़ उठा रहे है। साथ ही अशोक गहलोत ने कहा है कि 10 केंद्रीय मंत्रियो और भाजपा शासित राज्य सरकारों द्वारा किसानो को विरोध क्यों किया जा रहा है। उन्होंने ने कहा कि मोदी सरकार ने किसानो और विपक्षी नेताओ समेत किसी से कोई बात नहीं की थी। अगर वे पहले ही किसानो से बात करके उनको आश्वासन देते तो किसानो को यह कदम नहीं उठाना पड़ता। गहलोत ने आगे कहा कि इससे पहले भी कई सरकारों ने नए कानून लाये है और जनता ने उनके प्रधान मंत्रियो पर विश्वास किया है। लेकिन नरेंद्र मोदी देश की जनता को भरोसा नहीं दिला पाए है और न उनसे कोई संवाद किया है, अगर पहले ही पीएम मोदी ने यह सब कर लिया होता तो किसानो की ऐसी हालत नहीं होती।

इसके अलावा अशोक गहलोत ने कहा कि कोरोना काल में लोगो ने उनके कहने पर तालिया, थालिया और घंटिया बजायी और मोमबत्ती व दिए भी जलाये लेकिन किसानो के लिए पीएम मोदी ने अपना मुँह बंद किया हुआ है। मोदी पहले ही किसानो के हित में सही निर्णय ले सकते थे और किसानो को आश्वासन दे सकते थे। लेकिन मोदी ने ये सब मौके गवा दिया जिसके कारण किसानो को आंदोलन करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। प्रधान मंत्री अब भी किसानो से संवाद करके आंदोलन को शांत कर सकते है लेकिन अभी वे चुप्पी साधे हुए है। इसके अलावा गहलोत ने कहा कि केंद्र सरकार के पास देश में कई चुनौतियां है जिनकी तरफ केंद्र सरकार का कोई ध्यान नहीं है। लाखो लोगो को केंद्र सरकार के कारण अपनी नौकरिया गवानी पड़ी है। इसके अलावा देश को आर्थिक मंदी का भी सामना करना पड़ा है।