June 17, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

बीएसएनएल के कर्मचारियों ने सरकार से सस्ते 4G उपकरणों की मांग की, बीएसएनएल अभी तक भी 4G सेवा को शुरू नहीं कर पायी है

bsnl urges to govt for 4g equipment, वृतांत - Vritaant

सरकार के स्वामित्व वाली टेल्को भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) ने बीते एक साल में ब्रॉडबैंड और प्रीपेड सेवा के लिए कई सुधार करने की कोशिश की है। हालाँकि बीएसएनएल ने अभी तक भी देश में 4G सेवाओं को शुरू नहीं किया है। इसके अलावा अन्य टेलीकॉम ऑपरेटर 5 साल से देश में 4G सेवाओं का लाभ दे रहे है लेकिन बीएसएनएल अभी भी इनसे बहुत पीछे है। अन्य टेलीकॉम ऑपरेटर अब 5G सेवाओं पर अपना ध्यान केंद्रित कर रहे है और 5G सेवाओं को शुरू करने के लिए स्पेक्ट्रम नीलामी का इंतजार कर रहे है। बीएसएनएल के कर्मचारियों के समूह आल यूनियन एंड एसोसिएशन (एयूएबी) ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद को पत्र लिखकर देश में 4G सेवा को शुरू करने की आवश्यकता व्यक्त की है।

समूह के संघ ने पत्र में लिखा है कि सस्ते 4G उपकरणों के आभाव में बीएसएनएल 2 साल से ज्यादा जीवित नहीं रह सकता है। बीएसएनएल कर्मचारी संघ ने सरकार से कहा है कि अगर स्वदेशी उपकरण नहीं है तो उन्हें अन्य कंपनियों से 4G उपकरण खरीदने की अनुमति दे। इसके अलावा उन्होंने सरकार यह भी कहा है कि सरकार ‘मेक इन इंडिया’ नीति के आधार पर भेदभाव नहीं करे। संघ द्वारा सरकार से अनुरोध किया गया है कि सरकार को बीएसएनएल को अपने २ग और ३ग बीटीएस को 4G सेवाओं के लिए 4G बीटीएस में अपग्रेड करने की अनुमति देनी चाहिए। बीएसएनएल को हर तरह से 4G सेवाओं समय पर शुरू नहीं कर पाने के लिए बहुत परेशान होना पड़ रहा है। अगर समय पर 4G उपकरणों को खरीदने की इजाजत नहीं दी गयी तो बीएसएनएल को बचाना मुश्किल हो जायेगा।

कर्मचारी समूह ने 4G सेवाओं को शुरू करने में बहुत देरी के कारण हुए नुकसान के लिए प्रयाप्त मुआवजे की भी मांग की है। बीएसएनएल ने लागत में कटौती करने के लिए कुछ वर्षो में अपनी ग्राहक सेवाओं को आउटसोर्स किया है जो इस साल की शुरुवात में कर्मचारियों के अनुसार सेवाओं में कमी के कारण हुई थी। कर्मचारी संघ ने कहा कि प्रबंधन या सरकार द्वारा बीएसएनएल के मोबाइल टॉवरों को सहायक बीएसएनएल टॉवर कारपोरेशन (बीटीसीएल) में बदलने के लिए भी प्रयास किये जायेंगे। जहा एक तरह हाल ही में रिलायंस जिओ ने देश में अगले साल तक 4G सेवाओं को शुरू करने का दावा किया है, वही बसंल अभी भी 4G सेवाओं को शुरू करने के लिए संघर्ष कर रही है। सरकार को बीएसएनएल को प्रयाप्त उपकरण खरीदने और जल्द से जल्द 4G सेवा को शुरू करने के लिए मदद करनी चाहिए।