August 3, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

जयपुर : खत्म होने लगा है कोरोना, शहर में बढ़ते संक्रमण पर लगी लगाम

जयपुर कोरोना का कई महीनो से हॉटस्पॉट रहा है और शहर में कोरोना संक्रमण किसी भी अन्य शहरो से बहुत तेजी से फैला है। लेकिन प्रशसन द्वारा सही समय पर सख्त कदम उठाने से अब शहर में कोरोना का संक्रमण धीरे- धीरे कम हो रहा है। शहर के लोगो द्वारा सरकार द्वारा दिए गए सख्त निर्देशों के नियमित पालन से अब शहर ने कोरोना वायरस को हराना शुरू कर दिया है। एक समय ऐसा था जब शहर में सभी सरकारी अस्पतालों में कोरोना से संक्रमित मरीजों की बहुत भीड़ होती थी और सभी कोविद सेंटर भरे हुए होते थे। लेकिन यह तस्वीर अब बदलने लगी है और अब अस्पतालों में हम कोरोना मरीजों की संख्या को खाली होते हुए देख सकते है। जयपुर के लोगो और प्रशासन ने साथ मिलकर कोरोना को हारने में सफलता हासिल की है।

एक समय पर जयपुर शहर देश में कोरोना संक्रमण के मामले बहुत आगे थे क्योकि राज्य की राजधानी होने और अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डा होने की वजह से जयपुर में बाहर के लोगो की आवाजाही हमेशा बनी रही है जिसके कारण शहर को कोरोना वायरस के बढ़ते हुए मामलों से भी गुजरना पड़ा है। लेकिंन शहर के लोगो और प्रशासन ने समय पर उचित प्रतिबंधों के साथ इस बढ़ते संक्रमण पर विजय हासिल की है। राजधानी में राज्य के सब ज्यादा कोरोना मरीज एक ही दिन में सैकड़ो की संख्या में मिल रहे थे और यह रुकने का नाम भी नहीं ले रहा था। सरकार और लोगो द्वारा कई कोशिशे की गयी ताकि इस वायरस को फैलने से रोका जा सके, लेकिन कुछ कोशिशे विफल हो जाने के कारण शहर कोरोना वायरस की चपेट में तेजी से आ गया। इसके बावजूद प्रशासन ने हार नहीं मानी और कई सोच विचार के बाद सख्त कदम उठाये गए जिससे राजस्थान सरकार ने देश के अन्य राज्यो के सामने उदाहरण पेश किया। कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए सरकार द्वारा लिए गए फेसलो के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मुख्य मंत्री अशोक गहलोत की तारीफ की।

फ़िलहाल अब जयपुर शहर के सभी कोविद सेंटर खाली दिखने लगे है और राजस्थान के सबसे बड़े कोविद सेंटर आरयूएसएच में अब बेड खाली हो गए है और मरीजों की संख्या भी बहुत कम बची है। शहर के अधिकांश मरीज अब अपने घरो पर ही कोरोना का इलाज ले रहे है, जिससे शहर में अब मरीजों की भीड़ बहुत ही कम हो गयी है। इसके अलावा जयपुर शहर के सबसे बड़े अस्पताल एसएमएस अस्पताल में स्वदेशी कोरोना वैक्सीन का परीक्षण भी चल रहा है और स्वदेशी वैक्सीन के लिए कई प्रतिभागी खुद से वैक्सीन के परीक्षण के लिए आगे आ रहे है। इसके अलावा वैक्सीन ने भी उचित परिणाम देने शुरू कर दिए है। इन सारी सफलताओ को देखते हुए अब हम जल्द ही कोरोना से पूर्णतः छुटकारा पा लेंगे।

%d bloggers like this: