June 25, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

सरकार ने किसानो की परेशानियों और आपत्तियों को दूर करने के लिए अगली वार्ता के लिए आमंत्रित किया

govt invites famers to talk, वृतांत - Vritaant

कई दिनों से आंदोलन कर रहे किसानो की परेशानियों को दूर करने के लिए केंद्र सरकार ने किसान नेताओ को वार्ता के लिए आमंत्रित किया है। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान संघठनो को अधिक विस्तार से बताने के लिए वार्ता करने का आग्रह किया है ताकि किसानो की शिकायतों में स्पष्टता का अभाव होने पर विशेष आपत्तियों पर ध्यान केंद्रित कर सके। कृषि मंत्री ने यह भी कहा कि किसानो की कृषि कानूनों को खत्म करने की मांग को छोड़ देना चाहिए और केवल विशिष्ट मुद्दों पर ही वार्ता को आगे बढ़ाया जा सकता है। हजारो किसानो ने दिल्ली की सीमाओं पर कई दिनों से प्रदर्शन किया है, किसानो का कहना है कि इन कानूनों से केवल कॉर्पोरेट क्षेत्र को ही लाभ होगा।

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानो से वार्ता के लिए जल्द ही तारीख बताने का आग्रह किया है। लेकिन सरकार के साथ बातचीत को फिर से शुरू करने के लिए किसान संघठनो ने कोई संकेत नहीं दिया है। केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने कहा है कि कृषि मंत्री को किसानो की मांगो पर चर्चा करने के लिए किसान संघठनो के साथ बातचीत करने की सम्भावना है। अमित शाह ने पश्चिमी बंगाल में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मुझे समय के बारे में बिलकुल जानकारी नहीं है, लेकिन कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को किसानो की मांगो पर चर्चा करने के लिए कुछ ही दिन में किसान संघठनो के प्रतिनिधियों से बातचीत के लिए मिलने की सम्भावना है। इसके अलावा किसान संघठनो ने ने कानूनों को निरस्त करने के लिए सभी धरना स्थलों पर एक दिन की भूख हड़ताल करने की घोषणा की है।

किसानो के साथ अगली वार्ता के लिए सरकार ने एक तारीख बताने के लिए कहा है। फ़िलहाल किसान संघठनो की तरफ से कोई भी जवाब नहीं दिया गया है। इससे पहले किसान संघठनो ने कहा था कि अगली वार्ता में यदि सरकार कृषि कानूनों को रद्द करने के बारे में विचार करेगी तब ही वे अगली वार्ता करेंगे। सरकार द्वारा कहा गया है कि इस वार्ता में किसानो की सभी शिकायतों को सुना जायेगा और उनको हल करने की कोशिश की जाएगी। कृषि मंत्री तोमर ने कहा है कि सरकार जल्द से जल्द किसानो की सभी समस्याओ को हल करना चाहती है और लगातार सरकार द्वारा इसकी कोशिश की जा रही है।

%%footer%%