July 29, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

अटल टनल के शुरू हो जाने और बर्फ़बारी होने के कारण हिमाचल, उत्तखण्ड और कश्मीर में पर्यटन बढ़ा

देश में सर्दिया आ चुकी है और उत्तरी भारत में ऊँचे पहाड़ बर्फ से ढक चुके है। हिमाचल, उत्तराखंड और कश्मीर में बर्फ़बारी के साथ ही पर्यटन भी बढ़ने लगा है। कश्मीर में इस साल कई वजहों से पर्यटक गायब रहे थे। इसकी वजह एक तो धारा 370 को हटाया जाना और दूसरी कोरोना थी। लेकिन अब बर्फ़बारी एक बीच पर्यटकों की संख्या बढ़ गयी है और घाटी में पहले जैसा माहौल नजर आ रहा है। कुछ ही दिन में क्रिसमस और नए साल पर्व आने वाला है और इसके लिए लोगो ने बर्फीले पहाड़ो की और रुख करना शुरू कर दिया है। लोग कश्मीर, हिमाचल और उत्तराखंड जैसी जगहों पर इन पर्वो के जश्न के लिए एडवांस बुकिंग कर रहे है। गुलमर्ग में सभी होटल पहले से बुक हो चुके है और अब वहा पर जगह नहीं बची है। इसके अलावा हिमाचल और उत्तराखंड में भी एडवांस बुकिंग तेजी से बढ़ रही है।

हिमाचल में इस बार पर्यटकों के लिए सबसे खास सफर अटल टनल का रहेगा। इसी साल शुरू की गयी अटल टनल लगभग 10 किमी लम्बी है और यह मनाली और रोहतांग को जोड़ती है जिससे अब पहले की तुलना में 42 कम का सफर कम हो गया है। अटल टनल भी इस साल हिमाचल में आने वाले पर्यटकों को खास लुभा रही है जिसके कारण टनल से रोज़ हजारो गाड़िया गुजर रही है। अटल टनल के शुरू हो जाने से अब लोग अधिक संख्या में कुल्लू-मनाली की और रुख कर रहे है। अटल टनल के द्वारा लोग मनाली से रोहतांग होते हुए लाहौल स्पीति पहुंच रहे है और बर्फीले पहाड़ो का आनंद ले रहे है। बर्फीले पहाड़ो का लुफ्त उठाने के अलावा लोग यहाँ कई एडवेंचर एक्टिविटी भी कर रहे है।

इसके अलावा ऊँचे पहाड़ो और नदियों के प्रसिद्द उत्तराखंड में पर्यटकों की संख्या में बहुत अधिक बढ़ोतरी हुई है। सर्दियों के शुरू होते ही उत्तराखंड के होटलो में भी एडवांस बुकिंग में लगभग सभी होटलो में भारी संख्या में पर्यटकों ने बुकिंग कराई है। पहली बर्फ़बारी के होते ही पर्यटकों ने उत्तराखंड में एडवांस बुकिंग शुरू कर दी थी। तभी शनिवार को दूसरी बर्फ़बारी हो जाने से एडवांस बुकिंग में भारी संख्या में बढ़ोतरी हुई है। इस साल कोरोना महामारी के चलते पुरे साल पर्यटन बंद रहा। लेकिन अब सरकार द्वारा सभी क्षेत्रो में छूट दिए जाने के बाद लोगो ने अब सर्दियों की छुट्टिया मानाने के लिए बर्फीले पहाड़ो को चुना है। आने वाले दो पर्वो के कारण भी उत्तर भारत में पर्यटकों की संख्या बढ़ी है।

%d bloggers like this: