June 25, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

साल 2021 में चार बार आयोजित की जाएगी जीईई मैन की परीक्षा, छात्रों के लिए अच्छा स्कोर करने का है सुनहरा मौका

jee main conduct four times in 2021, वृतांत - Vritaant

इस साल कोरोना महामारी के कारण शिक्षा पर बहुत ही अधिक प्रभाव पड़ा है। पुरे साल भर स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थान बंद रहे है जिसके कारण छात्रों को पढाई के लिए केवल ऑनलाइन ही निर्भर रहना पड़ा है। देश में इंजीनियरिंग के लिए परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को भी तैयारी करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। लेकिन अब इन छात्रों के लिए सरकार एक सुनहरा अवसर प्रदान करने जा रही है। शिक्षा मंत्री पोखरियाल ने घोषणा की कि साल 2021 में जेईई मैन की परीक्षा चार बार आयोजित की जाएगी। इस फैसले से छात्रों को इस परीक्षा में अच्छा स्कोर करने के अधिक मौके मिल सकेंगे।

इसके अलावा इस फैसले से उन छात्रों का बहुत फायदा होगा जो बोर्ड की परीक्षाओ या कोरोना महामारी के कारण परीक्षा से वंचित रह जाते है। उन छात्रों से के लिए भी परीक्षा के और मौके होंगे जिससे वे इस परीक्षा से वंचित नहीं रह पाएंगे। इस परीक्षा को आयोजित कराने के लिए भी प्रारूप तैयार कर लिया गया है। इस परीक्षा का पहला चरण 23 से 26 फरवरी तक होगा। इसके बाद 15 से 18 मार्च, 27 से 30 अप्रैल और 24 से 28 मई तक आयोजित की जाएगी। इन सभी परीक्षाओ में भाग लेना जरुरी नहीं होगा। छात्र अपने हिसाब से परीक्षा में भाग ले पाएंगे। जिन छात्रों का पहला पेपर अगर अच्छ नहीं हुआ है तो उनके लिए अगली परीक्षा में स्कोर सुधारने के मौके मिलेंगे। चार बार इस परीक्षा के आयोजन से छात्रों की भीड़ पर भी काबू पाया जा सकेगा और इस प्रक्रिया से छात्रों की संख्या में भी कमी आएगी।

इस परीक्षा के आवेदन ऑनलाइन शुरू हो चुके है। ये आवेदन 16 दिसंबर से 16 जनवरी तक चलेंगे। इसके साथ आवेदन के लिए ऑनलाइन फीस भी जमा की जाएगी और छात्र चारो चरणों की फीस को एक साथ जमा कराने का भी विकल्प दिया गया है। इस परीक्षा को नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) के द्वारा कराया जायेगा। छात्रों को अपनी तैयारी में कमी को दूर करने के चार मौके मिल रहे है जिससे अब प्रतिस्पर्धा और अधिक बढ़ जाएगी और इसका कटऑफ पर खास असर पड़ेगा। इसके अलावा जेईई एडवांस के लिए भी क्वालीफाई होने के लिए अब परसेंटाइल भी बढ़ोतरी हो जाएगी। फ़िलहाल के लिए एनटीए में 12वी बोर्ड परीक्षा में 75 प्रतिशत अंक होने की अनिवार्यता को खत्म कर दिया है जिसके बाद अब छात्रों को केवल परीक्षा के स्कोर के आधार पर ही क्वालीफाई किया जायेगा।

%%footer%%