June 18, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

अगले महीने से स्टेट बैंक में लागु होगी नई चेक भुगतान प्रणाली

2021 में बैंक के नए नियम, वृतांत - Vritaant

भारत के सबसे बड़े ऋणदाता स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (एसबीआई) नयी चेक भुगतान प्रणाली को लागु करने के लिए तैयार है। नए नियम के अनुसार 50,000 से अधिक के भुगतान के लिए प्रमुख विवरणों की पुनः पुष्टि की आवश्यकता हो सकती है। चेक भुगतान का यह नया नियम 1 जनवरी 2021 से लागु हो जायेगा।

आरबीआई के दिशानिर्देशों के अनुसार कहा गया है कि हम सकारात्मक वेतन प्रणाली (पीपीएस) जिसमे अतिरिक्ति सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए जहा चेक जारीकर्ता को अब चेक भुगतना के संबंध में खाता संख्या, चेक राशि, तिथि तथा भुगतानकर्ता के नाम के साथ विवरण प्रदान करने की आवश्यकता होगी। इन सभी बदलावों के बारे में बैंक ने एसबीआई की वेबसाइट पर भी उल्लेख किया है।

एसबीआई ने ग्राहकों को सकारात्मक वेतन प्रणाली के लिए अपना विल्कप देने के लिए कहा है और किसी भी प्रश्न के मामले में अपनी निकटम शाखा से संपर्क करने के लिए कहा है। भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) न कुछ महीने पहले चेक के लिए पॉजिटिव पे सिस्टम लाने का फैसला किया था। अगस्त एमएसपी में आरबीआई गवर्नर शशिकांत दस द्वारा घोषणा की गयी थी ताकि उपभोक्ता सुरक्षा को ध्यान में रखा जा सके और भुगतान की जाँच के लिए धोखाधड़ी और दुर्व्यवहार के मामलो को कम किया जा सके। केन्दीय बैंक ने बैंको को यह भी सलाह दी थी कि वे अपने ग्राहकों के बीच सकारात्मक वेतन प्रणाली के लिए प्रयाप्त जागरूकता पैदा करे। ताकि ग्राहकों में नए नियम के प्रति अधिक ध्यान बढे। इसके अलावा उनको ग्राहकों को सुरक्षा का आश्वासन दिया जा सके।

पॉजिटिव पे की अवधारणा में बड़े मूल्य की जाँच के प्रमुख विवरणों को समेटने की एक प्रकिया शामिल है। इस प्रक्रिया के तहत चेक का जारीकर्ता इलेक्ट्रॉनिक रूप से एसएमएस, मोबाइल एप्प, इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम आदि जैसे चैनेलो के माध्यम से उस चेक का कुछ न्यूनतम विवरण जैसे दिनांक, लाभार्थी या भुगतानकर्ता का नाम, राशि आदि के माध्यम से जमा करता है। किसी भी विसंगति को सीटीएस द्वारा ड्रिवे बैंक और वर्तमान बैंक को दिया जाता है जो इस समस्या का निवारण करेंगे। स्टेट बैंक की इस नयी चेक भुगतान प्रणाली ने ग्राहकों की सुरक्षा को और मजबूत कर दिया है। अधिक मूल्य के भुगतान के लिए अब ग्राहकों नए नियम का पालन करना होगा।