June 18, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

किसान आंदोलन : दिल्ली पुलिस द्वारा ट्रेक्टर रैली के लिए सुझाये गए मार्गो से भटक कर किसान ट्रैक्टरो से लाल किले पर पहुंचे

farmers reached to red ford by tractors, वृतांत - Vritaant

देश की राजधानी दिल्ली में मंगलवार को केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध  में किसान का आंदोलन तेज हो गया है क्योकि कई किसानो के समूह ने दिल्ली में गणतंत्र दिवस की ट्रेक्टर परेड के दौरान सार्वजनिक सम्पति को नुकसान पहुंचाया और पुलिस की सुरक्षा को भी निशाना बनाया। इसके अलावा गणतंत्र दिवस की सुरक्षा के लिए तैनात पुलिस कर्मियों को भी निशाना बनाया गया। दिल्ली पुलिस द्वारा मंजूर किये किये निर्धारित मार्गो से भटकने के बाद किसान मंगलवार को दोपहर में अपने ट्रैक्टरो से लाल किले पर पहुंच गए। किसानो को दिल्ली में प्रवेश करते हुए बैरिकेट्स को तोड़ते और शहर के कई हिस्सों में बर्बरता करते हुए देखा गया।

प्रदर्शनकरी किसान अब पुरानी दिल्ली पुलिस मुख्यालय के सामने स्थित पुलिस बेरिकेट्स को तोड़ने के बाद आईटीओ तक पहुंच गए है और पुलिस कर्मियों पर हमला करते हुए और सार्वजानिक संपत्ति को तोड़ते हुए देखे गए है। प्रदर्शनकारी किसानो ने आईटीओ के पास दिल्ली परिवहन निगम की बसों में भी तोड़ फोड़ की। दिल्ली के पुलिस कर्मी को प्रदर्शनकारी किसानो ने ही बचाया क्योकि किसानो के एक समूह ने उसके साथ मारपीट करने का प्रयास किया। दिल्ली में आईओटी के पास प्रदर्शन कर रहे किसानो के समूह को हटाने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले भी दागने पड़े। जैसे ही आंदोलन उग्र और तेज हो गया तो कई मेट्रो स्टेशन के फटाको को भी बंद कर दिया गया। इसी बीच किसान नेता और प्रवक्ता भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू ) राकेश टिकैत ने किसानो द्वारा हिंसा की रिपोर्ट का खंडन किया।

उन्होंने कहा कि रैली शांतिपूर्वक चल रही थी। इस रैली में कोई भी हिंसा हुई है इसका मुझे ज्ञान नहीं है। किसान पिछले साल 26 नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे है। ऐसे में किसानो ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली में ट्रेक्टर रैली निकाली है जिसमे कई किसान समूहों को दिल्ली में इस रैली में अशांति फैलाते हुए पाया गया है। इस स्थित के  बाद दिल्ली के कई हिस्सों में इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है। किसानो की इस ट्रेक्टर रैली में हुई हिंसा में दूसरे समूह भी हो सकते है जो देश में अशांति फैलाना चाहते है। हालाँकि किसानो के कई समूह अपने दिए गए मार्गो से हटकर लाल किले पर जा पहुंचे है। ऐसे में दिल्ली पुलिस उनको वहा से हटाने का प्रयास कर रही है।