August 3, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

भारत में अपनी नयी प्राइवेसी पॉलिसी को लागु करना व्हाट्सप्प के लिए होगा मुश्किल, भारत सरकार ने व्हाट्सप्प को दी चेतावनी

कुछ दिन व्हाट्सप्प की नयी प्राइवेसी पॉलिसी का मुद्दा पुरे विश्वभर में छाया हुआ है। ऐसे में भारत में व्हाट्सप्प  के यूज़र्स लगातार व्हाट्सप्प की नई प्राइवेसी पॉलिसी का विरोध कर रहे है जिसमे कहा गया है कि यूज़र्स का डाटा फेसबुक के साथ शेयर किया जायेगा। इस बात को लेकर लोगो में व्हाट्सप्प पर अपने डाटा की सुरक्षा और प्राइवेसी को लेकर सवाल उठने लगे और भारत में इस नयी प्राइवेसी पॉलिसी के खिलाफ कोर्ट में भी कई याचिकाएं दर्ज की जा चुकी है। ऐसे में लोगो द्वारा सरकार पर जोर देने के बाद भारत सरकार ने व्हाट्सप्प के सीईओ को विल केट कार्थ को एक लेटर भेजा है जिसमे सरकार द्वारा कहा गया है कि भारत में व्हाट्सप्प द्वारा लायी नयी पॉलिसी अमाननीय होगी।

भारतीय सुचना प्रोधोगिकी मंत्रालय द्वारा कड़े शब्दों में कहा गया है कि व्हाट्सप्प की नयी प्राइवेसी पॉलिसी बिलकुल भी सही नहीं है और यह भारत सरकार द्वारा मानी नहीं जाएगी। हालाँकि व्हाट्सप्प एक प्राइवेट कंपनी है और उसकी कुछ टर्म एंड कंडीशन होती है जो यूज़र्स पर निर्मभर करता है कि यह उसे मानना है या नहीं। लेकिन फिर भी भारत में व्हाट्सप्प का दुनिया में सबसे बड़ा यूज़र बेस है और इसको देखते हुए भारत सरकार ने भारतीय यूज़र्स की गोपनीयता के बारे में चिंता व्यक्त की है। कुछ दिनों से लगातार हो रहे विरोध के कारण भारत सरकार ने यह कदम उठाया है और व्हाट्सप्प को अपनी प्राइवेसी पॉलिसी के बारे लेटर जारी किया है। भारत सरकार द्वारा साफ शब्दों में कहा गया है कि व्हाट्सप्प का दुनिया में सबसे बड़ा बाजार भारत है ऐसे जो भी नयी प्राइवेसी पॉलिसी लागू की जा रही है वे भारतीय यूज़र्स के लिए सही नहीं है और ऐसे आगे चलकर भी शायद यूज़र्स को नुकसान उठाना पड़ सकता है।

हालाँकि व्हाट्सप्प ने नयी प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर अपना स्पष्टीकरण दिया है और कहा है कि यूज़र्स के डाटा के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की जाएगी और सभी यूज़र्स का डाटा पूरी तरह से सुरक्षित रहेगा। इसके लिए व्हाट्सप्प ने सभी यूज़र्स को स्टेटस लगाकर भी अपनी परिवस्य पॉलिसी के बारे में समझाया है। इससे पहले व्हाट्सप्प ने नयी प्राइवेसी पॉलिसी को एक्सेप्ट करने की आखरी तारीख 8 फरवरी तय की थी लेकिन अब इसके तीन महीने के लिए बढ़ा दिया गया है। भारत में हो रहे कड़े विरोध के बाद आखिर अब सरकार द्वारा यह कदम उठाया गया है और किसी भी कंपनी को अन्य देश में अपने ऑपरेशन को संचालित करने के लिए सरकार की शर्तो को मानना आवश्यक होता है। ऐसे में व्हाट्सप्प को भी भारत में सरकार द्वारा दी शर्तो को मानना पड़ेगा और अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को भी हटाना पड़ सकता है।

%d bloggers like this: