January 20, 2022

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

इस बार भी नहीं हमे नहीं मिलेगा ऑस्कर, बाहर हुई ऑस्कर के लिए भेजी गयी भारतीय फिल्म जल्लिकट्टु

जब इस साल होने वाले ऑस्कर अवार्ड्स के लिए जब मलयालम फिल्म जल्लिकट्टु की घोषणा की गयी थी तब इस फिल्म के लिए भारतीय लोगो में बहुत ही उत्साह था और उम्मीद की जा रही थी इस बार यह फिल्म शायद भारत के लिए ऑस्कर जीत सकती है। लेकिन अब बुरी खबर यह निकल कर आ रही है कि यह फिल्म ऑस्कर की दौड़ से बाहर हो चुकी है। हाल ही ऑस्कर के लिए बेस्ट इंटरनेशनल फिल्मो की सूचि जारी की गयी और उस सूचि में जल्लिकट्टु को शामिल नहीं किया गया है। इस खबर के बाद लोगो की दो तरह की राय देखने को मिल रही है। कुछ लोगो का कहना है कि यह अच्छी फिल्म थी जो ऑस्कर जीत सकती थी लेकिन अब जब यह फिल्म बाहर हो चुकी है तो कोई बात नहीं है, अगली बार और अच्छा प्रयास करेंगे। लेकिन कुछ लोगो का मानना है कि इस फिल्म की जगह भारत से और भी दूसरा विकल्प हो सकता था, यानि इस फिल्म की जगह किसी अन्य फिल्म को ऑस्कर के लिए भेजना चाहिए था।

यह फिल्म भारत में बनी बेहतरीन फिल्मो में से एक है और इस फिल्म से उम्मीद भी की जा रही थी कि यह फिल्म जरूर ऑस्कर जीत सकती है। लेकिन अब इस फिल्म को ऑस्कर की रेस से बाहर कर दिया है। इसके बाहर होने का मुख्य कारण यूएस में इस फिल्म का प्रमोशन और प्रदर्शन ठीक से नहीं करना। यानि केवल अच्छी फिल्म को ऑस्कर के लिए भेज देना है बड़ी बात नहीं है, बल्कि वहां पर फिल्म का ढंग से प्रमोशन भी करना पड़ता है और बड़े पैमाने पर इसका प्रदर्शन भी करना जरूर होता है।

इसका मुख्य कारण यह है कि कई देशो से इस श्रेणी के अपनी सबसे बेहतरीन फिल्मो को भेजा जाता है। इस साल भी ऐसे ही अलग अलग देशो की 93 फिल्मो को भेजा गया था, जिनमे जल्लिकट्टु भी शामिल थी। अलग अलग देशो की ये फिल्मे अलग अलग भाषाओ में बनी होती है और ऑस्कर समिति के सभी लोगो द्वारा ये फिल्मे देखी हुई नहीं होती है जिसके कारण ऐसी फिल्मो को नजर अंदाज कर दिया जाता है और बाहर कर दिया जाता है। ऐसे यह बहुत ही जरुरी हो जाता है कि अलग अलग भाषा में भेजी गयी फिल्मो का वहां ठीक तरह से प्रदर्शन किया जाये ताकि ऑस्कर समिति द्वारा काबिल फिल्मो को भी नजर अंदाज ना किया जा सके।

%d bloggers like this: