January 20, 2022

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

भारत में डिजिटल पेमेंट नेटवर्क स्थापित करने के लिए रिलायंस जिओ ने फेसबुक और गूगल के साथ साझेदारी की

भारत के समूह रिलायंस इंडस्ट्रीज ने राष्ट्रिय डिजिटल भुगतान नेटवर्क स्थापित करने के लिए फेसबुक इंक, गूगल और फिनटेक के इन्फिबीम के साथ साझेदारी की है। इस साझेदारी के बारे में एक रिपोर्ट में अज्ञात सूत्रों का हवाला देते हुए बताया गया। पिछले साल भारतीय रिज़र्व बैंक ने भुगतान के लिए नयी इकाई बनाने के लिए कंपनियों को आमंत्रित किया था जो नेशनल पेमेंट कॉउंसिल ऑफ़ इंडिया (एनपीसीआई) द्वारा संचालित प्रणाली को टक्कर देगी। 2008 में स्थापित एनपीसीआई एक लाभ रहित कंपनी है जिसने मार्च 2019 तक दर्जनों बैंको को अपने शेयर धारको के रूप में गिना, जिनमे भारतीय स्टेट बैंक, सिटी बैंक और एचएसबीसी बैंक शामिल है। यह अन्तर बैंक फण्ड ट्रांसफर, एटीएम लेनदेन और डिजिटल भुगतान सहित सेवाओं के माध्यम से प्रतिदिन अरबो डॉलर के भुगतान की प्रक्रिया करता है।

एक रिपोर्ट में कहा कि रिलायंस और इन्फिबीम के नेतृत्व वाला समूह आरबीआई को अपना प्रस्ताव प्रस्तुत करने के उन्नत चरणों में था। इन्फिबीम के एक प्रवक्ता ने रिपोर्ट पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। उन्होने यह कहा कि कंपनी प्रक्रिया की गोपनीयता से बंधी हुई है जबकि गूगल और फेसबुक ने टिप्पणी के अनुरोध का तुरंत जवाब नहीं दिया। 2019 के एक अध्ययन के अनुसार, साल 2023 में भारत में डिजिटल भुगतान 135 बिलियन डॉलर तक बढ़ सकता है। फेसबुक और गूगल पहले से ही रिलायंस के साथ साझेदारी कर रहे है और जिओ प्लेटफार्म में खुद का स्टैक है जिनमे रिलायंस का संगीत, मूवी, एप्प्स और टेलीकॉम उद्यम है।

आरबीआई ने इस सप्ताह सभी पक्षों के लिए एनयूई आवेदन प्रस्तुत करने की सीमा 26 फरवरी से बढाकर 31 मार्च कर दी है। रिपोर्ट में कहा गया कि आरबीआई को प्रस्तुत किये जा रहे सभी प्रस्तावों का अध्ययन करने में एक और छह महीने लगने की उम्मीद है। आरबीआई ने टिप्पणी के अनुरोध का जवाब नहीं दिया। इससे पहले की मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया कि अन्य दलों ने अमेज़न और आईसीआईसीआई बैंक के नेतृत्व में समूह बनाया। ऐसे ही देश में अब सुरक्षित पेमेंट सिस्टम को स्थापित करने के लिए रिलायंस ने दो अमेरिकी दिग्गज कंपनियों से हाथ मिलाया है।

%d bloggers like this: