June 25, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

जयपुर : जल्द शुरू होगा जयपुर मेट्रो के दूसरे चरण का काम, अम्बाबाड़ी से इंडिया गेट तक होगा नया रुट

phase-2 of jaipur metro, वृतांत - Vritaant

जयपुर मेट्रो के पहला चरण अब पूरी तरह समाप्त हो चूका है। इस पहले चरण में जयपुर में मेट्रो मानसरोवर से बड़ी चौपड़ तक पहुंच गयी है। ऐसे में जयपुर मेट्रो को पुरे जयपुर में फैलाने की योजना तैयार कर ली गयी है। पहले चरण के समाप्त होने के बाद अब जयपुर मेट्रो के दूसरे चरण का प्रारूप तय हो गया है और प्रशासन ने जयपुए मेट्रो एक दूसरे चरण का काम शुरू करने के लिए तैयारी कर ली है। इस दूसरे चरण में जयपुर मेट्रो के द्वारा अम्बाबाड़ी और इंडिया गेट को जोड़ा जायेगा। अम्बाबाड़ी से इंडिया गेट तक यह सफर 23.5 किमी तक का होगा। यह जयपुर मेट्रो का अब तक का सबसे लम्बा रुट होगा जिसकी लम्बाई 23.5 किमी होगी। इस दूसरे चरण को पूरा करने के लिए खर्च का भी आकलन किया गया है। जयपुर मेट्रो के इस दूसरे चरण के लिए 4,546 करोड़ रूपए का खर्चा आएगा।

जयपुर मेट्रो रेल कारपोरेशन (जेएमआरसी) ने विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) को अंतिम रूप देने के बाद सुझाव और होने वाली आपत्तियों पर चर्चा करके नए सुझावों को आमंत्रित किया है। इस 23.5 किमी के जयपुर मेट्रो के इस रुट में 21 एलिवेटेड स्टेशन होंगे। इसके रास्ते में जमीन से ऊपर इसके कॉरिडोर के निर्माण के लिए एक निर्णय के बाद एमआई रोड से कॉरिडोर को मोड़ दिया गया है। इस दूसरे चरण के रुट पर मेट्रो को सम्भव बनाने के लिए किसी भी भूमिगत मार्ग का निर्माण नहीं करने का निर्णय लिया गया क्योकि इससे इस चरण को पूरा करने का खर्च बढ़ जायेगा।

एमआई रोड और अजमेरी गेट पर जयपुर मेट्रो के लिए एलिवेटेड कॉरिडोर का निर्माण नहीं किया जा सकता है क्योकि यहाँ पर हेरिटेज इमारते और कई ऐतिहासिक धरोधर है। इसके लिए जयपुर मेट्री रेल कारपोरेशन ने अशोक मार्ग से कॉरिडोर को मोड़ दिया है और इसके बाद मेट्रो ट्रैन अशोक मार्ग से टोंक रोड पर महारानी कॉलेज और एसएमएस अस्पताल तक जाएगी। जयपुर मेट्रो एक इस चरण से भीड़ भाड़ वाले इलाको में भीड़ से बचा जा सकेगा। जयपुर मेट्रो के दूसरे चरण में शहर के भीड़-भाड़ वाले इलाको को कवर किया जायेगा जिससे मेट्रो की पहुंच के बाद यातायात के साधनो में कमी आ सकेगी। जल्द ही सरकार द्वारा अनुमति मिलने के बाद जयपुर मेट्रो के इस चरण काम शुरू कर दिया जायेगा और इसके बाद शहर के अन्य प्रस्तावित मार्गो पर जयपुर मेट्रो को पहुचाने के लिए विचार किया जायेगा।

%%footer%%