August 4, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

राजस्थान :राहुल गाँधी ने राजस्थान में की जनसभाएं, केंद्र के कृषि कानूनों को रद्द कराने का वादा किया

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी दो राजस्थान के दो दिवसीय दौरे पर है। इस दौरे पर राहुल गाँधी ने अलग अलग जिलों में जनसभाएं की। इन सभाओ में अपने भाषण में राहुल गाँधी ने किसान आंदोलन का समर्थन किया और केंद्र के कृषि कानूनों की आलोचना की। शनिवार को राहुल गाँधी ने सबसे पहले अजमेर में जनसभा को सम्बोधित किया। इन जनभाओ में राहुल गांधी के साथ राजस्थान के मुख्य मंत्री अशोक गहलोत, प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द डोटासरा और सचिन पायलट भी मौजूद थे। राहुल गाँधी अजमेर में जनसभा को ख़त्म करके नागौर के मकराना में पहुंचे। इन सभाओ में राहुल गाँधी ने मोदी सरकार के खिलाफ कृषि कानूनों को लेकर आक्रमण किये।

राहुल गाँधी ने केंद्र कृषि कानूनों को किसानो के लिए बुरा बताया और कहा कि केंद्र सरकार के कृषि कानून किसानो को गरीब बना देंगे। उन्होंने कहा कि देश की 40 प्रतिशत आबादी को कृषि से रोजगार मिलता है और केंद्र के कृषि कानूनों से इन लोगो का रोजगार छीन लिया जायेगा। मोदी सरकार द्वारा लाये गए कृषि कानूनों का यही लक्ष्य है कि वे देश के किसानो से उनकी पैदावार छीनकर बड़े उद्योगपतियों को देना है ताकि वे किसानो का शोषण कर सके और किसानो को लूट सके। राहुल गाँधी ने इसके अलावा किसान आंदोलन का भी समर्थन किया। उन्होंने कहा कि किसानो के आगे जब अंग्रेजो को हार माननी पड़ी थी तो फिर केंद्र सरकार किसानो के आगे कुछ नहीं। हम सभी इस किसान आंदोलन को इसके अंजाम तक पहुचायेंगे और इन कृषि कानूनों  को रद्द करवा कर रहेंगे।

राहुल गाँधी ने अजमेर में ट्रैक्टर रैली में भी भाग लिया। यह रैली केंद्र के कृषि कानूनों के विरोध में निकाली गयी है और राहुल गाँधी ने इस रैली का समर्थन करते हुए इसमें भाग लिया। उन्होंने कहा कि ये कानून देश के छोटे व्यापारियों को बर्बाद कर देंगे। इससे देश किसान तो बर्बाद होगा ही, इसके अलावा देश के माध्यम वर्ग का भी शोषण होगा। केंद्र के कृषि कानूनों के अनुसार किसानो की उपज को मॉल और सुपर मार्केट में बेचा जायेगा। इससे आम आदमी का रोजगार छीन जायेगा और आम लोगो को लिए कुछ भी खरीदना बहुत ही महंगा होगा। इससे देश का क्या भला होगा जब देश के आम नागरिक का ही शोषण किया जायेगा। राहुल गाँधी के अलावा मुख्य मंत्री अशोक गहलोत, सचिन पायलट और गोविन्द डोटासरा ने भी इन जनसभाओं को सम्बोधित किया। इन जनसभाओं में स्टेज पर सोफे और कुर्सियों की जगह पर खटिया बिछायी गयी और सभी राजनेता इन्ही खटिया पर बैठे।

%d bloggers like this: