June 25, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

दुनिया के शीर्ष 100 इंस्टिट्यूट में देश के तीन संस्थान भी शामिल, आईआईटी बॉम्बे को मिला 49वा स्थान

iit delhi and iit madras in world's top 100 institutes, वृतांत - Vritaant

हाल ही में क्यूएस वर्ल्ड ने दुनिया टॉप 100 संस्थानों की सूचि जारी की है जिसमे भारत के तीन संस्थानों ने अपनी जगह बनायीं है। इसमें आईटी बॉम्बे, आईआईटी दिल्ली और आईआईटी मद्रास शामिल है। इनमे से सबसे ऊपर आईआईटी बॉम्बे है जिसमे इस सूचि में 49वे स्थान पर अपनी जगह बनायीं है। इसके अलावा आईआईटी दिल्ली ने 54वी व आईआईटी मद्रास ने 94वे स्थान पर अपनी जगह बनाई है। यह बहुत ही गर्व की बात है जब दुनिया सबसे बेहतरीन संस्थानों में भारत से तीन संस्थान इस सूचि में शामिल किये गए है जो तकनिकी शिक्षा के मामले में सबसे आगे है। देश के ये संस्थान हमेशा दुनिया और नए अविष्कार देने में सफल रहे है और यहाँ से अध्ययन करने वाले छात्रों ने देश का नाम रोशन किया है और दुनिया के सामने नए अविष्कारों को पेश किया है।

इसके अलावा विषयवार रैंक में देश की एनआईआरएफ रैंकिंग में पहला स्थान प्राप्त करने वाले आईआईएससी बंगलुरु ने नेचुरल साइंस विषय में 92वी रैंक प्राप्त की है। लाइफ साइंस और मेडिकल साइंस कैटेगरी में एम्स ने 248वी रैंक हासिल की है। हयूमैनिटिज़ विषय में जवाहरलाल यूनिवर्सिटी ने 159वा स्थान प्राप्त किया है और इसके अलावा सोशल साइंस में के विषय में दिल्ली यूनिवर्सिटी ने 208वा स्थान प्राप्त किया है। दुनिया के टॉप संस्थानों की यह रैंकिंग कुछ चीज़ो के आधार पर की जाती है जिनमे ऐकडेमिक, शिक्षकों की रेपुटेशन, रिसर्च और रिसर्च से आने वाले परिणामो के आधार पर इन संस्थानों को रैंकिंग दी जाती है।

ऐसे में सबसे ऊपरी पायदान पर हमेशा की तरह यूएस और यूके के शामिल हुए है। हर बार केवल यूके और यूएस के संस्थान है इस सूचि में सबसे ऊपरी पायदान पर मौजूद होते है। इनमे यूके से एमआईटी को पहला स्थान प्राप्त हुआ है। इसके अलावा यूएस की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी को दूसरा और कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ है। क्यूएस द्वारा जारी इस सूचि में दुनिया के टॉप 100 इंजीनियरिंग संस्थानों को शामिल किया गया है जो दुनिया में सबसे बेहतरीन शिक्षा प्रदान करते है और दुनिया के लिए नए अविष्कारों को पेश करते है। ऐसे में भारत से तीन संस्थान इस सूचि में शामिल है जो देश के लिए बहुत ही गौरव की बात है।

%%footer%%