August 5, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

राजस्थान : सरकार ने लिया बड़ा फैसला, अब राज्य में छठी और सातवीं के छात्र बिना परीक्षा दिए अगली कक्षा में प्रमोट होंगे

राजस्थान में कोरोना संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार रोज़ नए फैसले लेने को मजबूर हो गयी है। अब राज्य सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत अब राज्य में छठी और सातवीं कक्षा के छात्रों को बिना परीक्षा लिए अगली कक्षाओं में प्रमोट किया जायेगा। गहलोत सरकार ने राज्य में बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण को देखते हुए यह फैसला लिया है। इस निर्णय की जानकारी शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने दी। उन्होने कहा कि छात्रों के हित को ध्यान में रखते हुए सरकार ने राज्य के छठी और सातवीं कक्षा के छात्रों को बिना परीक्षा के ही अगली कक्षाओं में प्रमोट करने का फैसला लिया है। इससे पहले छठी और सातवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों की परीक्षाएं 15 से 22 अप्रैल तक स्कूलों में ही आयोजित की जानी थी। लेकिन अब छात्रों को कोई परीक्षा नहीं देनी होगी।

इस फैसले बाद के शिक्षा विभाग ने एक नोटिस जारी किया है जिसमे कहा गया है कि कक्षा 6 और कक्षा 7 के विधार्थियो को स्माइल, स्माइल 2 और आओ घर से सीखे आदि कार्यक्रमों में किये गए आकलन के अनुसार अगली कक्षाओं में प्रमोट किया जायेगा और किसी भी परीक्षा का आयोजन नहीं किया जायेगा। राज्य में कोरोना की दूसरी लहर और भी तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में सरकार ने राज्य में पहले ही सख्ती बढ़ा दी है और स्कूलों को पहले ही बंद किया जा चूका है। इस कोरोना की स्थिति को देखते हुए कक्षा 6 और 7 की परीक्षा लेने पर असमंजस की स्थिति बानी हुई थी। राज्य में सरकार ने 19 अप्रैल तक के लिए कक्षा 9 तक स्कूलों को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा बड़ी कक्षा के छात्रों को भी आधी संख्या में स्कूलों में बुलाया जा रहा है।

राज्य सरकार ने इससे पहले ही कक्षा 5 तक छात्रों के लिए कोई भी परीक्षा नहीं लेने का फैसला ले लिया था और कक्षा 5 तक के छात्रों को बिना परीक्षा के अगली कक्षाओं में प्रमोट करने का फैसला ले चुकी है। कुछ ही महीनो ने 10वी और 12वी बोर्ड की परीक्षाएं शुरू होने वाली है और ऐसे में छात्र चाहते है परीक्षा को रद्द कर दिया जाये दिल्ली के मुख्य मंत्री अरविन्द केजरीवाल ने केंद्र सरकार से अपील की देश में सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाओ को रद्द कर दिया जाये ताकि बच्चो को खतरा नहीं हो। उन्होंने कहा है कि परीक्षा से ज्यादा जरुरी बच्चो को खतरे से बचाना ज्यादा जरुरी है। इसके अलावा कई राज्यों ने बोर्ड की परीक्षाओ को रद्द कर दिया है और उम्मीद की जा रही है कि राजस्थान सरकार भी इस बारे में कोई बड़ा फैसला ले सकती है।

%d bloggers like this: