August 2, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

कोरोना वैक्सीन के बारे फैली अफवाहों का सच – Covid19 Vaccine Myths vs Facts in Hindi

myths vs facts

कोरोना जितनी तेजी से हमारे देश मे फैल रहा है उतनी ही तेजी से वैक्सीन लगाने का काम भी बढ़ रहा है। केंद्र सरकार ने एक बैठक के बाद 1 मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र सभी लोगों के लिए वैक्सीन लगवाने के रास्ता साफ कर दिया है। लेकिन लोग अब भी वैक्सीन लगवाने को लेकर असमंजस में हैं।

कई तरह की अफवाहें हैं जो वैक्सीन के बारे में फैली हैं, और साथ ही कुछ भ्रामक खबरें भी हैं जो कुछ असामाजिक तत्व उन खबरों को आग की तरह फैला रहे हैं। आज हम एक-एक करके उन्ही अफवाहो और भ्रामक खबरों के बारे में बात करेंगे और साथ ही हर हर एक का खंडन करते हुए आपको सच बताएंगे। Covid19 Myths Vs Facts in Hindi

Myth – वैक्सीन असुरक्षित है क्योंकि इसे इतनी जल्दी विकसित किया गया है!

Fact – चूंकि कोई भी टीका बनाने के लिए एक प्रोटोकॉल फॉलो किया जाता है, जहाँ उसे कई जांच प्रक्रियाओं और मानकों से होकर गुजरना होता है। तो कोरोना का टीका भी उसी प्रकार से तैयार किया गया है, हालांकि इसे बहुत जल्दी तैयार कर लिया गया है लेकिन इसका अर्थ यह नही है कि यह असुरक्षित है।

Myth – कोरोना वैक्सीन में ट्रैकिंग डिवाइस है!

Fact – यह अफवाह भारत से ज्यादा अमरीका में फैली है। दरअसल अमेरिका में nowtheendbegins.com नाम की एक वेबसाइट ने दावा किया है कि सरकार एक सिरिंज बनाने वाली कंपनी अपिजेक्ट सिस्टम्स को वैक्सीन लगाने का काम सौंप रही है। कंपनी ऐसे इंजेक्शन तैयार कर रही है जिसमे वैक्सीन prefilled होगी। साथ में एक RFID माइक्रोचिप लगी होगी। इस चिप से किसी को भी ट्रैक करना आसान होगा। बल्कि सच्चाई यह है की सिरिंज के लेबल में एक माइक्रोचिप लगी होगी जिससे स्वास्थ्य एजेंसियों को यह पता करने में मदद मिलेगी की कब और कहाँ-कहाँ वैक्सीन वितरित की गई है। लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है की दवाई में कोई माइक्रोचिप होगी खैर भारत का तो इससे दूर दूर तक कोई लेना नहीं है।

Myth – वैक्सीन से कोविड हो जाएगा

Fact – सबसे पहली बात तो यह कि वैक्सीन में कोई भी जीवित वायरस नहीं होता है। लेकिन अगर कोरोना की वैक्सीन लगने से पहले ही आप पॉजिटिव थे और आपने जांच नहीं कराई थी तो वैक्सीन लगने के तुरंत बाद भी जब चेक कराएंगे तो पॉजिटिव ही आएंगे। लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि आप कोरोना की वैक्सीन की वजह से पॉजिटिव हुए हैं। वायरस आपकी बॉडी में पहले से था जिसे आपने पहले चेक नहीं करवाया था। वैक्सीन को अपना काम शुरू करने में हफ्ता 10 दिन का समय लगता है।

Myth – वैक्सीन से एलर्जी के गंभीर दुष्प्रभाव होते हैं

Fact –इस बात में रत्ती भर भी सच्चाई नहीं है। हालाँकि कुछ केसेस में साइड इफेक्ट देखने को मिले हैं लेकिन सभी के साथ ऐसा देखने को नहीं मिला है। कुछ मामलों में सीवियर एलर्जी के पेशेंट को वैक्सीन लगवाने से पूर्व डॉक्टर की सलाह लेने की सलाह दी गई है। इसलिए जब भी आप वैक्सीन लगवाने जाएं वैक्सीनेटर या डॉक्टर को अपनी मेडिकल हिस्ट्री से जरूर अवगत कराएं।

Myth – महिलाओं में infertility / बांझपन

Fact – सच यह है कि इंफर्टिलिटी या यौन रोग जैसा कोई भी दुष्प्रभाव इससे नहीं होता है। बस गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन लगवाने को मना किया गया है। क्योंकि गर्भावस्था के दौरान कमजोरी की वजह से वैक्सीन लगवाना लिए हानिकारक हो सकता है।

Myth – कोरोना वैक्सीन डीएनए को बदल देगी

Fact – इस सवाल का जवाब वैक्सीन की कार्यप्रणाली में छुपा है। वैक्सीन में मेसेंजर RNA यानि mRNA का निर्माण किया गया है। जैसा की इसके नाम से पता चलता है यह शरीर में प्रवेश कर कोशिकाओं को स्पाइक प्रोटीन बनाने का मैसेज देता है, जो कोरोना वायरस में पाया जाता है। हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम इस प्रोटीन को पहचानता है और एंटीबॉडी बनाना शुरू कर देता है। mRNA कोशिका के केंद्रक यानि की nucleus में कभी प्रवेश नहीं करता है, जहाँ हमारे डीएनए को रखा जाता है। इन सबके बाद शरीर धीरे-धीरे mRNA से मुक्त हो जाता है।

 

सोशल मीडिया पर वायरल कोरोना वैक्सीन से जुड़ी Covid19 Vaccine Fake News

कोरोना वैक्सीन से जुड़ी दो भ्रांतियों यानि फेक न्यूज़ भी सोशल मीडिया और whatsapp पर बहुत वायरल हो रही हैं पहली तो ये की सरकार ने whatsapp से वैक्सीनेशन की अपॉइंटमेंट शुरू की है तो आपको बता दें की PIB फैक्ट चेक ने इसे गलत बताया है सरकार ने ऐसी कोई सुविधा शुरू नहीं की है।

यह ऑनलाइन ठगी का तरीका है आप इससे बच कर रहे और ऐसी किसी भी ठगी की शिकायत cybercrime.gov.in पर दें।

एक दूसरी पोस्ट में covid 19 को HIV कैंसर जैसी बड़ी बीमारियों से जोड़कर कहीं ना कहीं mislead karta हुआ दिखाया गया है तो आपको बता दें की जानलेवा बीमारी और महामारी में फर्क होता है ऐसी misleading, fake पोस्ट्स और अफवाहों के चक्कर में बिलकुल ना आयें। अपने और अपनों की सुरक्षा के लिए कोरोना वैक्सीन जरुर लगवाएं।

Climate Trends India: अब नहीं बनेंगे देश में नए कोयला बिजली घर

 

%d bloggers like this: