August 4, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

फ्लिपकार्ट और अडानी ग्रुप के बीच हुआ समझौता, मिलेगी हजारो नौकरिया

अमेरिका की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी के स्वामित्व वाली कंपनी फ्लिपकार्ट ने हाल ही में भारत में अडानी ग्रुप के साथ समझौता किया है। इसके बारे में खुद फ्लिपकार्ट ने घोषणा की है जिसमे फ्लिपकार्ट द्वारा कहा गया है कि उसने अडानी ग्रुप के साथ व्यापारिक भागीदारी की है। इस भागीदारी के बाद फ्लिपकार्ट अपने ई-कॉमर्स प्लेटफार्म की पहुंच को और भी मजबूत करना चाहता है। इससे फ्लिपकार्ट को के लॉजिस्टिक और डाटा सेंटरों की क्षमताओं को बढ़ाने में बहुत ही मदद मिलेगी। इससे एक फायदा यह भी होगा कि दोनों बड़ी कंपनियों की भागीदारी के कारण लगभग 2500 लोगो को रोजगार मिल सकेगा। इसके अलावा फ्लिपकार्ट अपने तीसरे डाटा सेंटर की भी स्थापना करने जा रही है जो अडानी कोनेक्स के चेन्नई संयत्र में करेगी। अडानी कोनेक्स, एज कोनेक्स और अडानी इंटरप्राइजेज के बीच एक संयुक्त व्यवसाय है। हालाँकि इस भागीदारी के बजट के बारे में कोई भी जानकारी नहीं दी गयी है।

इस भागीदारी के तहत अडानी लॉजिस्टिक्स लिमिटेड मुंबई में अपने आगामी लॉजिस्टिक हब में 5.34 लाख वर्ग फुट वाले क्षेत्रफल वाले गोदाम का निर्माण करेगी। इसका उपयोग पश्चिमी भारत में फ्लिपकार्ट के ई-कॉमर्स की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए किया जायेगा। एक बयान में इस बारे में जानकारी दी गयी जिसमे आगे कहा गया कि यह लॉजिस्टिक हब अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी से लेस होगा और यह साल 2022 तक शुरू किया जा सकता है। इस लॉजिस्टिक हब में फ्लिपकार्ट के ई-कॉमर्स की लगभग एक करोड़ इकाइयों को रखने की क्षमता होगी। फ्लिपकार्ट ने आगे कहा कि इस साझेदारी से फ्लिपकार्ट की आपूर्ति श्रंखला को मजबूत करने में मदद मिलेगी। इसके अलावा छोटे और मजले व्यापारियों को भी इससे फायदा होगा।

इसके अलावा फ्लिपकार्ट की विश्वसनीयता, सुरक्षा और स्थिरता को मजबूत बनाने के लिए डाटा सेंटरों का भी निर्माण किया जायेगा। इन डाटा सेंटरों में अडानी ग्रुप की सोलर एनर्जी का भी उपयोग किया जायेगा। फ्लिपकार्ट ने कहा कि भारत में किसी भी इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण में अडानी ग्रुप बहुत ही आगे है और अडानी ग्रुप के साथ साझेदारी से फ्लिपकार्ट देश में अपनी पहुंच को और भी मजबूत कर सकेगा। इसके अलावा देश में अपनी आपूर्ति श्रंखला को तेज और सुगम बनाएगा। इस साझेदारी के बाद सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी अमेज़न को कड़ी टक्कर मिलेगी।

%d bloggers like this: