August 5, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

राजस्थान : मुख्य मंत्री आज करेंगे राज्य मंत्रियो के साथ बैठक, राज्य कई पबंधिया बढ़ाई जाएगी

राजस्थान में कोरोना संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है और ऐसे में रोज़ राज्य में हजारो की संख्या में कोरोना के नए मरीज बढ़ते जा रहे है। ऐसे में सरकार ने इस स्थिति को देखते हुए राज्य में पाबंधियाँ बढ़ा सकती है। हालाँकि मुख्य मंत्री अशोक गहलोत ने पहले ही राज्य में फिर से लॉक डाउन लगाने से इनकार कर दिया है। लेकिन राज्य में हालात बहुत ही नाजुक होते जा रहे है और ऐसे में सरकार रोज़ कड़े फैसले ले रही है ताकि कैसे भी इस संक्रमण को बढ़ने से रोका जा सके। राज्य में कोरोना के मामले आज मुख्य मंत्री राज्य मंत्रियो के साथ बैठक करेंगे जिसमे राज्य में और पाबंधियाँ बढ़ना तय है। इस बैठक के बाद सरकार नयी गाइड लाइन जारी कर सकती है। मुख्य मंत्री वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए धर्मगुरुओ, विधायकों और नेताओ के साथ वार्ता करेंगे। हालाँकि मुख्य मंत्री ने राज्य में लॉक डाउन को फिर लगाने से मना कर दिया है लेकिन राज्य के लोगो से अपील की है वे इस स्थिति में भी लॉक डाउन के नियमो को पालन करे।

मुख्य मंत्री के साथ होने वाली इस बैठक में राज्य में नयी पबंधियो को लगाने के लिए चर्चा की जाएगी और उसके बाद नयी गाइड लाइन को जारी किया जायेगा। नयी गाइड लाइन में राज्य में पाबंदियों का बढ़ना तय है। इन नयी पाबंदियों में सरकार अब राज्य में सार्वजनिक और शादी समारोहों में शामिल होने वाले लोगो की संख्या को घटाकर 50 कर सकती है। इसके अलावा राज्य के कोरोना प्रभावित जिलों में नाईट कर्फ्यू का समय शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक किया जा सकता है। राज्य में 10वी और 12वी बोर्ड की परीक्षाओ के बारे में फैसला लिया जा सकता है जिसमे या तो सरकार परीक्षाओ को स्थगित कर सकती है या समय पर पूरा कराने के फैसला ले सकती है।

हालाँकि राज्य शिक्षा मंत्री ने बोर्ड परीक्षाओ को रद्द करने का सुझाव दिया था लेकिन इस बैठक में इसके बारे में भी तय किया जायेगा। नयी गाइड लाइन में सरकार धार्मिक मेलो, उत्सवों, जुलुस पर पूरी तरह रोक लगा सकती है। सरकार दफ्तरों में कर्मचारियों की संख्या को भी घटाया जा सकता है। कोचिंग संस्थाओ को भी फिर से बंद किया जा सकता है। बसों और अन्य वाहनों में यात्रियों की संख्या को भी 50 फीसदी किया जा सकता है। इसके अलावा रेस्टोरेंटो को भी बंद करने या अंदर बैठकर खाना खाने पर रोक लगायी जा सकती है। इस बैठक के बाद नयी गाइड लाइन बनाकर जारी कर दी जाएगी जिसके बाद आम जनता जो भी इसके बारे में सूचित कर दिया जायेगा।

%d bloggers like this: