January 19, 2022

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

देश में कोरोना वैक्सीन की कीमत केंद्र और राज्यों के लिए अलग अलग होने सुप्रीम कोर्ट ने उठाया सवाल

देश में कोरोना का संकट बहुत ही तेजी से ऊपर बढ़ रहा है। देश में रोज़ लाखो की संख्या में नए कोरोना मरीज सामने आ रहे है और रोज़ हजारो की संख्या में देश में कोरोना वायरस के कारण मौते हो रही है। ऐसे में देश में कोरोना वैक्सीन की भी समस्या बढ़ गयी है और देश में अब वैक्सीन की कमी हो गयी है। ऐसे में अब केंद्र सरकार ने राज्यों को अपने स्तर पर वैक्सीन खरीदने के लिए कहा है। लेकिन राज्य सरकार इस बात को लेकर परेशान है कि देश में एक ही वैक्सीन के लिए अलग अलग कीमत क्यों है ? केंद्र सरकार को कोरोना वैक्सीन बहुत ही कम कीमत में दी जा रही है और राज्यों के लिए इसी वैक्सीन की कीमत बहुत ज्यादा तय की गयी है। इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई हुई जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने भी इस बात पर आपत्ति जताई है। सुप्रीम कोर्ट ने सवाल उठाया है कि देश में एक ही वैक्सीन के लिए केंद्र और राज्यों के लिए अलग अलग कीमत क्यों ?

मंगलवार को की गयी सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा कि सरकार ने वैक्सीन की कीमत अलग अलग क्यों रखी है और सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ड्रग कण्ट्रोल एक्ट के तहत सरकार को वैक्सीन की कीमत को नियंत्रित करने की शक्ति दी गयी है इसके बावजूद सरकार ने एक वैक्सीन की कीमत अलग अलग रखी है। इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से देश में ऑक्सीजन के उत्पादन और वितरण की जानकरी देने को भी कहा। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से १ मई से शुरू रहे टीकाकरण और ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए की गयी तैयारियों की रिपोर्ट पेश करने के कहा। हालाँकि केंद्र सरकार ने राज्यों से कहा है कि वे राज्यों के लिए वैक्सीन का वितरण नहीं रोकेगी। केंद्र सरकार ने कहा है कि देश में वैक्सीन का स्टॉक कम है और कंपनी द्वारा और वैक्सीन का निर्माण किया जा रहा है। जैसे ही केंद्र के पास वैक्सीन का नया स्टॉक आएगा वे राज्यों में सप्लाई करना शुरू कर देंगे।

इसके अलावा हाल ही में वैक्सीन निर्माता कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ने वैक्सीन के दामों में कमी कर दी है। कंपनी हाल में दी गयी जानकारी में घोषणा की कि अब वैक्सीन के एक डोज़ की कीमत 400 रूपए से 300 रूपए कर दी गयी है यानि अब कंपनी ने वैक्सीन की प्रति डोज़ की कीमत में 100 रूपए की कटौती कर दी है। हालाँकि देश के कई राज्यों ने 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगो को कोरोना वैक्सीन मुफ्त में लगाने की घोषणा की है और लोगो को वैक्सीन लगाने का पूरा खर्च राज्य सरकार उठाएगी। सीरम इंस्टिट्यूट ने वैक्सीन का निर्माण करना तेजी से शुरू कर दिया है और कुछ दिनों में सरकार फिर से वैक्सीन का स्टॉक कर देश में सप्लाई करना शुरू कर देगी।

%d bloggers like this: