August 5, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

भारत में भविष्य में अधिक संख्या में नजर आएंगे इलेक्ट्रिक व्हीकल्स, जानिए भारत में इलेक्ट्रिकल व्हीकल्स की इंडस्ट्री के बारे में

अगर ट्रेवल और ट्रांसपोर्टेशन के साधनो के भविष्य के बारे में बात करे तो वह है इलेक्ट्रिकल व्हीकल्स जिनसे प्रदूषण नहीं फैलता है और खर्चा भी कम आता है। जैसा कि हम सब जानते है कि बहुत समय सभी व्हीकल्स को कमर्शिअल इंजन से चलाया जा रहा है जो पेट्रोल और डीजल से चलते है। लेकिन पेट्रोल और डीजल एक कुछ कण जल नहीं पाते है और धुआँ के साथ इंजन से बाहर आ जाते है और हवा में मिल जाते है जिनके कारण हवा प्रदूषित हो जाती है और इससे बीमारिया फैलने लगती है। जबकि इलेक्ट्रिक व्हीकल में ऐसा नहीं होता है क्योकि ये इलेक्ट्रिक मोटर से चलते है और इनसे कोई भी गंदगी बाहर नहीं निकलती है। इसके अलावा इलेक्ट्रिकल व्हीकल्स के और भी अन्य फायदे है जिनमे यह इंजन वाले व्हीकल से कॉस्ट इफेक्टिव होते है क्योकि इनकी रखरखाव की कीमत बहुत ही कम होती है। इसके अलावा इलेक्ट्रिक कारे चलने में ज्यादा सुरक्षित होती है और इनकी स्टेबिलिटी रोड  पर ज्यादा होती है। साथ ही इनकी प्रतिदिन का खर्च इंजन वाली कारो से बहुत ही कम पड़ता है।

भारत सरकार भी देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को प्रमोट कर रही है। भारत सरकार ने 2030 तक देश में 30 प्रतिशत व्हीकल्स को इलेक्ट्रिक करने की योजना बनायीं है। इसके लिए सरकार ने कुछ स्टेप्स भी लिए है जिनके तहत सरकार इलेक्ट्रिक व्हीकल खरीदने वाले लोगो सब्सिडी भी देगी। सरकार इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की इम्पोर्ट ड्यूटी को बढ़ाया है ताकि भारत में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के निर्माण को बढ़ाया जा सके। सरकार ने इस साल इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को देश में प्रमोट करने के लिए गो-इलेक्ट्रिक नाम से एक अभियान भी चलाया है जिसके तहत देश में इलेक्टिक व्हीकल्स की मोबिलिटी को बढ़ाया जा रहा है।

दिल्ली सरकार ने भी प्रदेश में  1000 से अधिक इलेक्ट्रिक ऐसी बसों को मंजूरी है। इसके अलावा भारत सरकार ने देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए जीएसटी की दर भी कम कर दी है। सरकार इलेक्ट्रिक व्हीकल्स पर केवल 5 प्रतिशत है जीएसटी लेगी जबकि इंजन वाले व्हीकल्स पर 28 प्रतिशत जीएसटी ली जाती है। इसके अलावा इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के लिए लोन लेने पर 1.5 लाख रूपए तक का टैक्स भी माफ किया जायेगा। सरकार द्वारा इलेक्ट्रिक व्हीकल इंडस्ट्री जो बढ़ावा देने के लिए उठाये जा रहे इन कदमो से अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश में आने वाले में समय में सड़को पर इलेक्ट्रिक व्हीकल्स अधिक संख्या में नजर आएंगे।

%d bloggers like this: