July 29, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

जानिए सेना न होते हुए भी भूटान दुनिया का सबसे खुशहाल देश क्यों है ?

भूटान भारत का एक ऐसा पडोसी देश है जो जीडीपी नहीं बल्कि जीएनएच यानि ग्रॉस नेशनल हैप्पीनेस के मामले दुनिया में शीर्ष पर है। भूटान एक ऐसा देश है जिसके पास खुद की सेना भी नहीं है फिर यह दुनिया का सबसे खुशहाल देश है और यहाँ के लोग दुनिया में सबसे ज्यादा खुश है। आखिर भूटान के पास ऐसी क्या है चीज़ है जो इसे दुनिया के बाकि देशो से अलग बनाती है। इसके बारे में जानने के लिए हम एक एक करके भूटान की विशेषताओं के बारे में चर्चा करेंगे।

भूटान दुनिया का ऐसा देश देश है जहा पर सड़को पर कोई भी रोड लाइट्स नहीं है। यानि भूटान की सड़को पर कोई सिग्नल देखने को नहीं मिलते है क्योकि यहाँ के लोग खुद से ही सरकार द्वारा बनाये गए ट्रैफिक नियमो को पालन करते है। यहाँ पर सड़को के बीच चौराहो पर एक ट्रैफिक पुलिस कर्मी तैनात रहता है जो लोगो संकेत देता रहता है और यहाँ पर लोग खुद से सभी नियमो की पालना करते है। यानि अगर किसी को घंटो तक ट्रैफिक में इंतजार करना पसंद नहीं है उनके लिए भूटान सबसे अच्छा विकल्प है। यही भूटान की खुशहाली का कारण भी है क्योकि यहाँ के लोग हर नियमो का पालन करते है। नहीं तो हमारे जैसे देश में लोग हमेशा नियमो को तोड़ने का मौका देखते रहते है।

भूटान की अगली विशेषता की बात करे तो यहाँ पर भिखारियों की संख्या न के बराबर है। हालॉंकि भूटान कोई अमीर देश नहीं है लेकिन फिर भी भूटान में कोई भी भिखारी नहीं है। यहाँ पर लोगो की जनसंख्या मात्र 8 लाख के आस पास है और यहाँ पर कोई भी भिखारी या बेघर नहीं है क्योकि यहाँ पर एक अलह तरह के सिस्टम को अपनाया गया है जिसके तहत यदि कोई व्यक्ति अपनी जमीन को किसी कारणवश खो देता है तो वह भूटान के राजा से मदद मांग सकता है, जिसके बाद राजा उसे एक छोटा जमीन का टुकड़ा दान में दे देता है जिससे वह अपना गुजरा कर सके।

भूटान की खुशहाली का एक राज़ यह भी है कि यहां पर सभी मुफ्त में शिक्षा दी जाती है। भूटान शिक्षा का महत्व समझता है और इसलिए ही भूटान में शिक्षा पर अधिक ध्यान दिया जाता है। भूटान में 10वी तक की पढ़ाई का खर्च राज्यों द्वारा उठाया जाता है और इसके बाद ऊँची शिक्षा का खर्च मेरिट के आधार पर किया जाता है। यहाँ पर सभी पब्लिक स्कूलों को कुछ ही राशि के अलावा और भी फीस लेने की अनुमति नहीं है। यहाँ पर अंग्रेजी के साथ साथ यहाँ की लोकल भाषा भी बच्चो को पढ़ाया जाता है ताकि बच्चे अपनी संस्कृति से भी जुड़े रहे। भूटान में पश्चिमी संस्कृति को महत्व न देकर यहाँ पर सभी लोग अपनी संस्कृति को ज्यादा अपनाते है। भूटान भारत और चीन जैसे बड़े देशो के बीच रहकर भी अपनी संस्कृति को सहेजे हुए है और यहाँ के लोग इसी में खुश है।

इसके अलावा भूटान में तम्बाकू के सेवन पर पूरी तरह से प्रतिबंध है। साल 2007 में भूटान ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया कि देश में किसी भी तम्बाकू उगने की अनुमति नहीं है। यह दुनिया के एकमात्र ऐसा देश है जहा पर सिगरेट आदि पर प्रतिबंध है। लेकिन अपवाद यह है कि यहाँ पर सिगरेट्स को इम्पोर्ट किया जा सकता है लेकिन उन पर 100 प्रतिशत सेल्स टैक्स और कस्टम ड्यूटी लगती है जिससे ये बहुत ही ज्यादा महंगी होती है जिसकी वजह से ज्यादातर लोग इन्हे खरीदते नहीं है। यहाँ की दुकानों में भी हमे सिगरेट्स नहीं मिलती है। इसके अलावा बाहर से आये लोगो भूटान में स्मोकिंग करने लिए बहुत बड़ी राशि अदा करनी पड़ती है। भूटान में लोगो को मुफ्त में चिकित्सा सेवाएं भी उपलब्ध कराई जाती है। ज्यादातर लोगो का यह मानना है कि मुफ्त में चिकित्सा जैसी सेवाएं केवल अमीर देश ही उपलब्ध करा सकते है लेकिन भूटान जैसे देश ने हमे गलत साबित किया है और इसी वजह से भूटान आज दुनिया का सबसे खुशहाल देश है।

%d bloggers like this: