September 26, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

Vrishabha Rashi / वृषभ राशि : क्या होता है वृषभ का अर्थ और किन राशियों के जातकों से रहना चाहिए सावधान

saptahik rashifal

वृषभ राशि के अर्थ

यदि वृषभ राशि के शाब्दिक अर्थ देखे तो इसका अभ्प्रय होगा बैल । यदि इस राशि के चिह्न को देखें तो बैल की आकृति देखने को मिलेगी । इसके अनुसार ही इसके जातक सीधे और साधारण रहन सहन वाले होते हैं । ये राशि अर्थ त्रिकोण की वायु तत्वीय राशि है ।

वृषभ राशि की शत्रु राशियाँ और समाधान

वृषभ राशि की शत्रु राशियां मेष, तुला और धनु हैं। वृषभ राशि वालो को इनसे वैर नहीं रखना चाहिए बहस करने से बचना चाहिए । जहाँ तक हो इनसे सावधान रहना चाहिए।

मेष राशि जिन जातकों के नाम ( चू,चे,चो, ला,ली,लू,ले,लो,अ ) से शुरू होते है उनकी राशि बनती है मेष।

मेष राशि के जातक तेज़ दिमाग और तेज़ क्रोध के जातको को दर्शाती है । वृषभ राशि के जातको को इनसे सावधान रहना चाहिए । इनके साथ बहस करने से साथ यात्रा करने से बचना चाहिए । मेष राशि के जातक इनको मानसिक कष्ट शारीरिक कष्ट दे सकते हैं ।

ये शत्रु इनके पिता के कुटुम्बी जन भी हो सकते हैं । यदि मेष राशि के जातको के साथ कुछ कार्य करना ही पड़े तो विशेष स्थिति में ही करें या किसी की सलाह से ही करें ।

 

तुला राशि: जिन जातकों के नाम (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते ) से शुरू होते है उन की राशि है तुला ।

तुला राशि के जातक अधिक दिखावा पसंद होते हैं और व्यावसायिक दृष्टिकोण वाले अधिक होते हैं । ये वृषभ राशि के जातको के प्रति द्वन्द्वी होते हैं सदैव वृषभ राशि के जातको को नीचा दिखने का प्रयास करते है और इनके जीवन में संघर्ष को बढ़ा देते हैं लेकिन अधिकांशतः जीत वृषभ राशि की ही होती है ये इनके विद्यालय के सहपाठी कार्यालय में साथ काम करने वाले भी हो सकते हैं ।

 

धनु राशि: जिन जातकों के नाम अक्षर (ये,यो,भा,भी,भू,धा,फ,ढ,भे) से शुरू होते है उनकी राशि धनु होगी।

धनु राशि के जातक क्रोधी स्वभाव के और हमेशा दुसरो से आगे निकलने की महत्वाकांक्षा वाले होते हैं ये वृषभ राशि के जातको को गुप्त रूप से षड्यंत्र के द्वारा परेशान कर सकते हैं वृषभ राशि वाले समझ नहीं पाते और धनु राशि के जातक उनके साथ रहते हुए भी इनको धोखा दे सकते हैं इनसे सावधान रहना अति आवश्यक है अन्यथा बड़ी हानि झेलनी पद सकती है ।

 

वृषभ राशि स्वभाव: जिन जातक के नाम ( ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) अक्षरों से होते है उनकी राशि वृषभ है।

वृषभ राशि के जातक स्थिर प्रकृति के और सीधे सादे स्वभाव के होते हैं । इनको दिखावा अधिक पसंद नहीं होता इनकी आकर्षण क्षमता अधिक होती है । कद काठी मध्यमहोती है । बहुत ही सहजता से साधारण वेशभूषा धारण करने वाले होते हैं वृषभ राशि के जातक । यदि इस राशि के चिह्न को देखें तो बैल की आकृति देखने को मिलेगी जिसके अनुरूप ही इन जातको का मेहनती स्वभाव होता है ये क्षमाशील स्वभाव के होते हैं । लड़ाई झगड़े से दूर रहने वाले और शांति प्रिय पूजा उपासना करने वाले होते हैं । इनको कभी कभी प्रपंचो का सामना भी करना पद सकता है इसके लिए इनको शत्रु को पहचानना और उससे बचना चाहिए एवं विश्वास पात्र से या किसी की सहायता से ही कार्य करना चाहिए ।

अधिकांशतः वृषभ राशि के जातक वाक्शक्ति में निपुण होते हैं और पत्रकार भी हो सकते है । इनकी कल्पना शक्ति अद्भुद होती हैं जिसके कारण लेखक या कवि भी होते हैं ऐसे जातक । वृषभ राशि अर्थ त्रिकोण की प्रथम राशि है सो इसके जातक व्यापारिक प्रवत्तिके भी होते हैं।

Meen Rashi / मीन राशि : क्या होता है मीन का अर्थ और किन राशियों के जातकों से रहना चाहिए सावधान

शनि स्तोत्र (Dashrath krit shani stotra / Stuti): दशरथ जी ने कैसे दूर किया शनिदेव का दोष अपनी कुंडली से त्रेतायुग में

%d bloggers like this: