September 26, 2021

वृतांत – Vritaant

खबर, संवाद और साहित्य

जल्द हमारे मोबाइल फ़ोन्स में देखने को मिलेगी नयी स्मार्ट रैम, सैमसंग ने पेश की एआई आधारित नई स्मार्ट रैम

आज के समय में हमारे मोबाइल फ़ोन में हम कई कंपनियों से रैम के बारे में सुनते है और कई कम्पनिया अपने फ़ोन में ज्यादा रैम होने वाले फीचर को लेकर भी अपने फोन का प्रचार करती है। देखा जाये तो रैम हमारे स्मार्टफोन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा भी है क्योकि रैम हमारे फ़ोन को तेजी से काम करने के लिए मदद करती है। इसके अलावा रैम कई प्रकार भी आती है जो दूसरी से बेहतर होती है और रैम हमारे फ़ोन की ऊर्जा या बैटरी बचाने में भी मदद करती है। लेकिन अब रैम को लेकर मार्केट में नयी तकनीक सामने आ रही है जिसे स्मार्ट रैम के कहा जा रहा है। स्मार्ट शब्द आते यही हम सोचने लगते है कि शायद यह कोई सॉफ्टवेयर आधारित रैम होगी जिससे  हम किसी भी फ़ोन की रैम को बढ़ा सकते है लेकिन ऐसा नहीं है बल्कि यह पूरी तरह से अलग संकल्पना है। आज के समय में हमारे स्मार्टफोन में रैम का बहुत ही ज्यादा उपयोग हो रहा है जिसकी वजह से अब स्मार्टफोन ६ जीबी रैम के साथ शुरू होने लगे है। इसके अलावा भी हमे 6 जीबी, 12 जीबी और 16 जीबी तक रैम वाले स्मार्टफोन भी देखने को मिल जाते है। इससे पहले भी वर्चुअल रैम पेश की जा चुकी है जिसमे हमारे फ़ोन की स्टोरेज का कुछ हिस्सा रैम की तरह कार्य कर सकता है। देखा जाये तो यह संकल्पना नयी नहीं है क्योकि इससे पहले विंडोज में ऐसा होता आया है और यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में भी स्वैप मैमोरी के नाम से बहुत पहले से हो रहा है। लेकिन स्मार्ट रैम के तहत अब ऐसी तकनीक सामने आयी है जिसमे रैम के साथ प्रोसेसर लगा देने बहुत कुछ आसान हो सकता है।

इस तकनीक के तहत एलपीडीडीआर5 की पीआई रैम सामने आयी है यानि प्रोसेसिंग इन मैमोरी, जिसको सैमसंग ने बनाया है। सैमसंग ने एक विशेष प्रकार की रैम को विकसित किया है जिसमे हमारे मोबाइल फ़ोन में एआई जैसी क्षमता रैम में भी डाल दी गयी है। इससे यह फायदा होगा कि अब ज्यादा तेज स्पीड वाली रैम बनाने की जरुरत नहीं रहेगी और न ही ज्यादा मैमोरी काम में ली जा सकेगी और बैटरी की बचत की जा सकेगी, क्योकि रैम के पास खुद का दिमाग होगा जिससे यह खुद को काम के हिसाब से बदल सकती है और यह भी तय कर सकती है कि कब कौनसे काम को कब व कैसे करना है। इसी तकनीक के साथ सैमसंग ने स्मार्ट रैम को विकसित किया है। इस रैम को अन्य रैम से तुलना करे तो यह बाजार में मौजूद सबसे तेज रैम से दो गुना तेज है। इस स्मार्ट रैम का फायदा यह होगा कि हमारा फ़ोन ज्यादा लम्बे समय तक चल सकेगा और कम रैम में हम हमरे मोबाइल फ़ोन में सभी टास्क आसानी से कर पाएंगे।

स्मार्ट रैम में अलग से प्रोसेसर की जरुरत पड़ रही है और फ़ोन का प्रोसेसर इसमें कोई काम नहीं कर रहा है। सैमसंग अगले साल तक अपने कुछ नए मोबाइल फ़ोन के साथ स्मार्ट रैम को बाजार में पेश करेगा। इससे अब हमे ज्यादा रैम वाले स्मार्टफोन की जरुरत नहीं पड़ेगी बल्कि कम रैम में ही हम किसी भी टास्क को तेजी से और आसानी से कर पाएंगे। यह स्मार्ट रैम हमे मोबाइल फ़ोन्स में ही नहीं बल्कि अन्य स्मार्ट गैजेट्स में भी देखने को मिलेगी। स्मार्ट रैम किसी भी टास्क के अनुसार खुद को बदल सकती है और बिना किसी रुकावट के आसानी से कर सकती है। इसके अलावा लैपटॉप और कई ऐसे गैजेट्स जो रैम का उपयोग करते है में भी स्मार्ट रैम देखने को मिल सकती है। इसके बाद अन्य कम्पनिया भी आने वाले समय में अपने मोबाइल फ़ोन्स में स्मार्ट रैम ला सकती है। अब देखना यह है कि आखिर सैमसंग का वह कौनसा पहला फ़ोन होता है जिसमे हमे यह स्मार्ट रैम देखने मिलेगी ?

%d bloggers like this: